Sunday, 29 September 2013

जब मैं जया जी से मिली थी


आप माने या ना माने
मैं कभी जया भादुरी जी से मिली थी
तब मैं 9th कक्षा मे पढ़ती थी
जया जी की " गुड्डी" फिल्म ही रीलीज़ हुई थी
सन् 1971 मे दिसंबर का महीना था
वो अपनी ममेरी बहन की शादी मे लखनऊ आई थी
उनकी बहन हमारे पड़ोस मे रहती थी
शादी मे मैं ना जा सकी थी
मेरे हाफ ईयर्ली पेपर्स चल रहे थे
शादी के दूसरे दिन पेपर के बाद
मैं और मेरी सहेली अपनी अपनी मम्मियों के साथ
अमीनाबाद मे गंगा प्रसाद धरमशाला पहुंचे
जहां एक रात पहले शादी का आयोजन था
नीचे ही उनके पिता तरुण भादुरी जी से मिलना हुआ
उन्होने हमे उपर एक कमरे मे बिठाया
वहां बिछे थे गद्दे ,हम नीचे ही बैठ गये
तभी सफेद साड़ी पहने जया जी
अपने लम्बे लम्बे खुले बालों को
हाथ से लपेटते हुए जूडा बनाती हुई आई
और हमारे पास ही नीचे बैठ गयी
रिश्तेदार उन्हे कुसुम बुला कर छेड़ रहे थे
गुड्डी फिल्म की नायिका का नाम कुसुम जो था
वो नाराजगी दिखाते हुए मुस्करा रही थी
इतनी प्रसिध अदाकारा को सामने पाकर
हम कुछ झिझकी और चुप ही रहीं
जया जी बोली,गुड्डी फिल्म देखी है क्या ?
हमने कहा नहीं,पेपर्स के बाद देखेंगे
वो बोली ,नीचे पार्क मे भीड़ क्यूं है
मैने बताया नीचे झंडे वाले पार्क मे
चौधरी चरण सिंह जी आ रहे हैं
तब हमने उनसे औटोग्राफ लिये
वो हंसी ,कुछ दिन बाद ये औटोग्राफ
कूड़े की टोकरी मे तो नहीं फेंके जायेंगे
हमने कहा, नहीं नहीं ऐसा होगा नहीं
फिर हमने उनसे ली विदा
उनके पिता जी ने हमसे कहा
आप किसी और को जया के
आने के बारे मे ना बताये
नहीं तो भीड़ हो जायेगी

हम खुशी खुशी घर आये
अगले दिन ये किस्सा सब सहेलियों को बताया
कुछ ने माना ,कुछ ने मजाक मे उड़ाया

आज सोचती हूँ,कि जया जी इतनी बड़ी सेलेब्रिटी हैं
रोज कई लोगों से मिलती होंगी
उन्हे हमारा मिलना क्या याद होगा
पर इतना तो याद ही होगा
सन् 1971 के दिसम्बर महीने मे
वो अपनी कज़िन कि शादी मे लखनऊ गयी थी 

6 comments:

  1. When so much has happened in one's life, the inspiration for writing is found so easily....It would be fun to read something beyond...something from your imagination...if you had met Amitabh also along with Jaya at that time...tab kya sama hota..uske bare mei sun ne ko ji hai didi ji...keep it up...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanx.bhai i keep in mind ur advice....

      Delete
  2. wonderful!! kitni saral bhasha aur kitna powerful impact. love this one. 100!! what a feat. congratulations ma :)

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. this is called a century.... knock out kar diya sab poets ko mummyji.....

    ReplyDelete